किसान आंदोलन दिल्ली – जाने पूरी जानकारी आखिर मामला क्या है? | Why Farmers Are Protesting in Hindi

Why Farmers Are Protesting in Hindi – हम सभी को बचपन से यह सिखाया जाता है कि कोई काम छोटा या बड़ा नहीं होता , पर क्या कभी आपने सोचा है ऐसा क्यों। काम चाहे डॉक्टर का हो या नर्स या उस हॉस्पिटल में काम करने वाले किसी चपरासी का सबके काम अपनी अपनी जगह ज़रूरत और खासियत होती है।

ऐसे में अगर हम किसानों की बात करे तो हमारे देश के किसान भी ऐसे लोग है जो पूरे देश का पेट पालते है। ज़ाहिर सी बात है किसान अनाज उगाते है तभी हमारे घरों में अनाज आता है और उसी से हमारे घरों पर खाना बनता है।

कई बार ऐसा भी होता है कि जो किसान पुरे देश का पेट चलाते है उन्हें ही अपने अनाज का सही दाम नहीं मिलता और उनका नुक्सान होता है। बिचौलियों के दखल की वजह से ऐसा होता है।

इसे रोकने तथा किसानों के फायदे के लिए सरकार बोहोत तरह नए कानून भी निकलती है जिससे किसानों का फायदा हो , पर ज़रूरी नहीं की हर कानून से फायदा हो कई बार कुछ कानून गलती से किसानों के खिलाफ भी हो जाते है। इन कानूनों को लेके ऐसे ही सरकार और किसानों के बीच रस्सा कस्सी चलती रहती है। सितंबर 2020 में निकले कुछ कानूनों के साथ भी ऐसा ही कुछ हुआ।

 

किसान आंदोलन जाने पूरी जानकारी – Why Farmers Protesting in Hindi

2020 से 2021 के बीच चलने वाला किसान विरोध वो विरोध है जो तीन किसान कानूनों के खिलाफ चलाया गया है। यह कानून भारत के संविधान ने सितंबर 2020 में लागू किये थे। इन्ही कानूनों को लेकर किसान प्रदर्शन पर उतर आये है और ये प्र्दशन अब कुछ तीन महीने से चल रहा है। Why farmers are protesting in Hindi

पहले किसान हरयाणा में प्रदर्शन कर रहे थे पर उनकी मांगों पर कोई विचार न होता देख उन्होंने दिल्ली का रुख कर लियाअब किसान दिल्ली में आंदोलन कर रहे है। इस दौरान किसानों और सरकार के बीच काफी वार्ता हुई पर कोई ठीक हल नही निकल पाया।

Why farmers are protesting in Hindi – सरकार का कहना है कि MSP के बिल में कोई बोहोत ज़्यादा बदलाव नहीं होगा पर किसान यह बात मानने को तैयार ही नही। किसानों का कहना है कि जब तक सरकार तीनो कानून वापस नहीं लेती उनका प्रदर्शन ख़त्म नहीं होगा। वही इस मामले पर सरकार का कहना है कि वो इन कानूनों में संसोधन कर सकती है पर इन्हें वापस नहीं ले सकती।

किसान MSP के कानून को कानूनी रूप से बाध्यकारी बनाना चाहते है। इससे उन्हें यह गारन्टी रहेगी की उनकी फसल पर उन्हें एक सटीक लाभ होगा।

 

Why Farmers Are Protesting in Hindi

Image Source

 

MSP क्या है? और इसकी किसानों को क्या ज़रूरत है?

1960 के दशक में पुरे देश की खाद्यान्य की मांग को पूरा करने के लिए सरकार गेहू और धन की उपज को बढ़ाना चाहती थी। लेकिन किसान बिना फायदे की गारंटी के यह काम नहीं करना चाहते थे। इस काम को बढ़ाने और किसानों को आश्वाशन देने के लिए MSP के कानून को बनाया गया था। Why farmers are protesting in Hindi?

1964 में L.K. Jha के नेतृत्व में एक समिति को गठित किया गया था जो सिफारिश के आधार पर किसानों की फसल का न्यूनतम समर्थन मूल्य तय करती थी। कुछ सूत्रों के अनुसार फसल का न्यूनतम मूल्य कृषि लगत का डेढ़ गुना तय किया जाता था।

Why farmers are protesting in Hindi – इस कानून को इसलिए बनाया गया था ताकि किसानों को उनके लाभ की गारंटी रहे। जिससे वे लोग धन और गेहू की और उपज करे। फसल की मूल्य का निर्धारण सरकार कृषि लागत मूल्य आयोग की सिफारिश पर किया जाता था। सरकार का इन सिफारिशों को मानना मुश्किल नहीं था क्योंकि असल में MSP कोई कानून नहीं बल्कि एक सरकारी नीति है।

 

MSP को कानून क्यों नहीं बनाना चाहती सरकार

Why farmers are protesting in Hindi – सरकार का कहना है कि फसलो पर MSP तय करने से उनकी कीमत अंतराष्ट्रीय बाजार में बहोत ज़्यादा बढ़ जाती है। इससे बाजार में खरीददार कम हो जाते है और फसल ज़्यादा पद जाती है। MSP की सुविधा की वजह से किसान गेहू और धन जैसी फलसो का बोहोत ज़्यादा उत्पादन करते है। और इस वजह से सर्कार के आगे इस फसल की खरीद और भण्डारण को लेकर समस्या जो जाती है।

 

MSP कैसे सरकार के लिए बनी सरदर्द!!

1964 में किसान मूल्य आयोग की समिति के सुझाव से कुल 23 तरह की फसलों पर न्यूनतम समर्थन मूल्य तय करने की बात थी। परंतु दुर्भाग्यवश किसानों को सिर्फ गेहू और धान की फसल पर लाभ हुआ। इसका परिणाम यह था कि गेहू और धान उगने वाले किसानों की संख्या काफी बढ़ गयी। इसी मुकाबले में अन्य फलसो की खरीद MSP पर न के बराबर हुई। और ऐसे ही सरकार जनवितरण प्रणाली के लिए गेहू और धन की खरीद लगातार करती रही। Why farmers are protesting in Hindi

इस बात का अंदाज़ा हम इस बात से लगा सकते है कि 2019 से 2020 में धान का कुल उत्पादन 118.43 मिलियन टन था जिसकी 43.26 फीसद सर्कार ने MSP पर की थी। जबकि चने की 18.47 फीसद ,सरसो की 8.7 फीसद और मूंग की 5.69 फीसद की खरीद ही सिर्फ MSP पर की गयी थी।

सरकार का कहना यह है कि MSP के कानून से अंतरराष्ट्रीय बाजार पर बोहोत असर हो रहा है। फसल की दाम में बढ़त की वजह से बाजार में खरीददार नहीं मिल रहे तथा सरकार के खाते से सब्सिडी जा रही है सो अलग। सरकार का कहना है की इससे हमारी अर्थव्यवस्था पर भी काफी असर पड़ रहा है। 

अब यह बात तोह इन चीज़ों से स्पष्ट हो जाती है कि खुले बाजार में बेचने से किसानों को उनकी फसलो को कम दाम में बेचना होगा। जिससे किसानों को खेती में लाभ कम होगा। इसके दुष्परिणाम हेतु ही कई किसानों का खेती से मोहभंग हो गया है। और यह एक वजह बन सकती है निकट भविष्य में खाद्यान्य के किल्लत की। ज़ाहिर सी बात है अगर किसान किसानी छोड़ देंगे तो देश में धान के उत्पादन कैसे होगा। सरकार के कहने के अनुसार फसल की कीमत अंतर्राष्ट्रीय बाजार से ज़्यादा हमारे घरेलु बाज़ार में है।

 

किसान आंदोलन में किसानों ने अब तक क्या क्या किया?

Why farmers are protesting in Hindi – किसानों का ये आंदोलन हरयाणा पंजाब से अहुरु हुआ था पर सरकार को इस बात कोई गौर न करते देख किसानों ने दिल्ली की एयर रुख कर लिया।

25 सितंबर 2020 में किसान संगठनो ने भारत बांध की मांग की थी। इस आंदोलन का सबसे ज़्यादा असर पंजाब, हरयाणा और उत्तर प्रदेश जैसे शहरों में दिखाई पड़ा और इसका कुछ कुछ असर केरल, कर्नाटक, तमिल नाडु और ओडिसा में भी दिखाई पड़ा।

24 सितंबर 2020 को किसानों ने रेल रोको कैंपेन को चलाया जिससे पंजाब से जाने और आने वाली बोहोत से रेलों को परेशानी हुई थी। अब जब उन्होंने देखा की उनके शहर की सरकार कुछ नहीं कर पा रही तो उन्होंने सोचा की सीधे केंद्रीय सरकार के पार एफरिष कर दिल्ली जाते है। और कुछ दिनों पहले 26 जनवरी को किसानों ने जमकर प्रदर्शन किया। वे लोग लाल किले में जाकर प्रदर्शन करने लगे इसी में एक व्यक्ति की मृत्यु भी हो गयी। Why farmers are protesting in Hindi?

 

इन सब बातों का निष्कर्ष!

Why farmers are protesting in Hindi – किसानों का कहना है कि MSP पर खरीद न होने की वजह से उन्हें घाटा हो रहा है और सरकार का कहना है कि इन कानूनों से कृषि को पहले से भी ज़्यादा लाभ होगा और सरकार की परेशानी भी नहीं बढ़ेगी। अब आगे क्या होगा ये तोह समय बतायेगा लेकिन मैं चाहूंगा कि सच्चाई और अच्छाई की जीत हो।

Mayank Jaiswal

नमस्कार दोस्तों स्वागत है आप सभी लोगो का मेरे इस blogging website "Blogging Beast" में, मेरा नाम Mayank Jaiswal है और मै एक successful blogger हु मेरी बोहोत सी अनेक blogging websites है। अगर आप भी blogging में interest रखते है तो मै आपको बिलकुल free में blogging सिखाऊंगा, blogging के tips, tricks, tutorial सारी चीजे आपके साथ share करूँगा। blogging के बारे में ज्यादा जानने के लिए कृपया करके "Blogging Beast" को follow करे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *